नोएडा की मैरियन बायोटेक के दो कफ सिरप असुरक्षित, न करें इस्तेमाल: WHO

नोएडा की मैरियन बायोटेक के दो कफ सिरप असुरक्षित, न करें इस्तेमाल: WHO

WHO Medical Product Alert: 22 दिसंबर को उज्बेकिस्तान ने आरोप लगाया था कि मैरियन बायोटेक कंपनी द्वारा निर्मित दवाओं का सेवन करने से 18 बच्चों की मौत हो गई. 

World Health Organization: विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) ने सिफारिश की है कि उज्बेकिस्तान में बच्चों के लिए नोएडा की कंपनी मैरियन बायोटेक द्वारा बनाए गए दो कफ सिरप का इस्तेमाल नहीं किया जाना चाहिए. बुधवार को एक मेडिकल प्रोडक्ट अलर्ट में, WHO ने कहा कि मैरियन बायोटेक द्वारा निर्मित ‘सब-स्टैंडर्ड चिकित्सा उत्पाद, ऐसे प्रोडक्ट हैं जो गुणवत्ता मानकों या विशिष्टताओं को पूरा करने में विफल रहे हैं और इसलिए विनिर्देश (specification) से बाहर हैं.’

WHO ने अपनी वेबसाइट पर जारी एक अलर्ट में कहा, ‘यह WHO मेडिकल प्रोडक्ट अलर्ट दो सब-स्टैंडर्ड (दूषित) उत्पादों को संदर्भित करता है, ये उज्बेकिस्तान में पहचाने गए और 22 दिसंबर 2022 को WHO को रिपोर्ट किए गए. सब-स्टैंडर्ड मेडिकल प्रॉडक्ट्स ऐसे उत्पाद हैं जो गुणवत्ता मानकों या विशिष्टताओं को पूरा करने में विफल होते हैं और इसलिए विनिर्देश से बाहर हैं.’

‘निर्माता ने उत्पादों की सुरक्षा और गुणवत्ता पर गारंटी नहीं दी’
अलर्ट में कहा गया, ‘दो उत्पाद एम्बरोनॉल सिरप (AMBRONOL Syrup) और डीओके-1 मैक्स सिरप (DOK-1 Max Syrup) हैं. दोनों उत्पादों के घोषित निर्माता मैरियन बायोटेक प्राइवेट लिमिटेड (MARION BIOTECH PVT. LTD) (उत्तर प्रदेश, भारत)हैं. आज तक, कथित निर्माता ने इन उत्पादों की सुरक्षा और गुणवत्ता पर WHO को गारंटी नहीं दी है.’

उज्बेकिस्तान से खांसी की दवाई खाने से बच्चों की मौत की खबरें सामने आने के बाद नोएडा स्थित फार्मा मैरियन बायोटेक पर संकट के बादल छा गए हैं. WHO के अनुसार, उज़्बेकिस्तान गणराज्य के स्वास्थ्य मंत्रालय के राष्ट्रीय गुणवत्ता नियंत्रण प्रयोगशालाओं द्वारा किए गए कफ सिरप के नमूनों के प्रयोगशाला विश्लेषण में पाया गया कि दोनों उत्पादों में दूषित पदार्थों के रूप में डायथिलीन ग्लाइकॉल और / या एथिलीन ग्लाइकॉल की अस्वीकार्य मात्रा शामिल है.

‘सब-स्टैंडर्ड उत्पाद असुरक्षित हैं’
WHO अलर्ट में कहा गया, ‘इन दोनों उत्पादों के क्षेत्र में अन्य देशों में मार्केटिंग प्राधिकरण हो सकते हैं. उन्हें अनौपचारिक बाजारों के माध्यम से, अन्य देशों या क्षेत्रों में भी वितरित किया जा सकता है.’ संयुक्त राष्ट्र की स्वास्थ्य एजेंसी ने कहा कि ‘इस अलर्ट में संदर्भित सब-स्टैंडर्ड उत्पाद असुरक्षित हैं और विशेष रूप से बच्चों में उनके उपयोग से गंभीर चोट या मृत्यु हो सकती है.’

उज्बेकिस्तान में हुई थी 18 बच्चों की मौत
22 दिसंबर को उज्बेकिस्तान ने आरोप लगाया कि मैरियन बायोटेक कंपनी द्वारा निर्मित दवाओं का सेवन करने से 18 बच्चों की मौत हो गई. मंगलवार को उत्तर प्रदेश खाद्य सुरक्षा एवं औषधि प्रशासन विभाग ने मैरियन बायोटेक कंपनी का उत्पादन लाइसेंस निलंबित कर दिया.

पिछले महीने केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री मनसुख मंडाविया ने कहा था कि खांसी की दवाई Dok1 Max में दूषण की खबरों के मद्देनजर नोएडा स्थित फार्मा कंपनी की सभी निर्माण गतिविधियों को रोक दिया गया

Advertisement

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

%d bloggers like this: